सुरक्षा में सेंध, मोदी-इवांका के डिनर का सीसीटीवी फुटेज हुआ था लाइव

95 0

हैदराबाद :अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप लौट चुकी हैं, लेकिन पीएम नरेंद्र मोदी के साथ डिनर का सीसीटीवी फुटेज मंगलवार यानी 28 नवंबर को कुछ चैनल पर लाइव हो गया था. इसके बाद सिक्युरिटी इश्यू को लेकर विवाद खड़ा हुआ. इवांका और खुद पीएम मोदी के लिए बड़े पैमाने पर सिक्युरिटी अरेंजमेंट के बाद होटल फलकनुमा पैलेस का सीसीटीवी फीड बाहर आना सुरक्षा में सेंध माना जा रहा है. बता दें कि GE समिट 2017 में हिस्सा लेने के लिए इवांका दो दिन हैदराबाद में रही थीं.

स्थानीय चैनलों ने प्रसारित किए फुटेज

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, हैदराबाद के कुछ स्थानीय चैनलों (तेलुगु चैनल) ने डिनर का सीसीटीवी फुटेज लाइव किया था. इसके बाद कुछ नेशनल चैनलों पर भी इस फुटेज के चलाए जाने की जानकारी मिली. रिपोर्ट के मुताबिक, यह फुटेज मंगलवार की शाम 9.42pm का था, जब पीएम मोदी, तेलंगाना के सीएम के चंद्रराव और गवर्नर ईएसएल नरसिम्हन सोफा पर बैठकर एक दूसरे से बात कर रहे थे.

पीएमओ ने लिया संज्ञान, हरकत में आया SPG

बता दें कि यह इवेंट पूरी तरह से मीडिया के दायरे से बाहर रखा गया था. जब कुछ चैनल इसके फुटेज चलाने लगे तो पीएमओ ने इस बात का संज्ञान लिया और स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (SPG) को अलर्ट किया. इसके बाद ही एसपीजी ने तेलंगना पुलिस से इस मामले में हस्तक्षेप करते हुए लाइव ब्रॉडकॉस्टिंग रोकने के लिए कहा.इसके बाद पब्लिक रिलेशंस ऑफिसर्स, निजी सचिव और सीनियर पुलिस अफसर हरकत में आए. उन्होंने टीवी चैनल से सीसीटीवी फीड के लाइव प्रसारण से रोका.इस मामले में की जा रही जांच में खुलासा हुआ है कि लाइव का प्रसारण सिटी पुलिस कमिश्नर के ऑफिस के कमांड एंड कंट्रोल रूम से हुआ था. जानकारी के मुताबिक, कुछ सीनियर पुलिस अफसरों ने कुछ स्थानीय चैनल के रिपोर्टर्स को कमांड रूम में एंट्री करने की इजाजत दी थी.

Related Post

नई अर्थव्यवस्था बना रहे हैं, लंबे समय में दिखेगा फायदा : जयंत

Posted by - September 28, 2017 0
 अर्थव्यवस्था पर पिता-पुत्र आमने सामने, यशवंत सिन्हा के आरोपों पर जयंत सिन्हा ने दिया जवाब अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में वित्त…

पॉक्सो एक्ट में बदलाव पर हाईकोर्ट ने उठाए सवाल, केंद्र से पूछा – क्या कोई रिसर्च की?

Posted by - April 23, 2018 0
दिल्‍ली हाईकोर्ट ने पूछा – अध्यादेश लाने से पहले किसी पीड़िता से पूछा गया कि वे क्या चाहती हैं? सरकार…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *