महराजगंज में 8 वर्षीय मासूम से रेप, नहर किनारे लहूलुहान मिली

110 0
  • मासूम बच्ची को इलाज के लिए जिला चिकित्सालय भेजा गया
  • मौके पर पहुंचे एसपी, दोषियों की जल्द गिरफ्तारी के आदेश

महराजगंज। जिले के घुघली थानाक्षेत्र के बेलवा तिवारी तथा मठिया गांव के बीच नहर किनारे एक आठ साल की मासूम बच्ची को अकेला देख दरिंदों ने उसके साथ दुष्‍कर्म किया। इसके बाद लहूलुहान मासूम को नहर किनारे पटरी पर फेंककर भाग गए। नहर किनारे मासूम को तड़पता देख आसपास मौजूद चरवाहे और खेतों में काम कर रहे मजदूर एकत्र हो गए। ग्रामीणों की सूचना पर घुघली थाना पुलिस और एम्बुलेंस मौके पर पहुंची। बेहोशी की हालत में बच्ची को घुघली प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र भेजा गया, जहां चिकित्सकों की टीम ने हालत नाजुक देख उसे जिला चिकित्सालय रेफर कर दिया।

घटना की जानकारी होने पर पुलिस अधीक्षक आरपी सिंह ने मौके पर पहुंच कर घटना के बारे में जानकारी ली और घुघली थानाध्यक्ष को जल्द से जल्‍द घटना का खुलासा करने का निर्देश दिया। उन्‍होंने भरोसा दिलाया कि पीडि़त परिवार को न्‍याय अवश्‍य मिलेगा। उन्‍होंने कहा कि दोषियों को किसी हालत में बख्शा नहीं जाएगा।

सिर्फ अपना नाम बता पा रही है मासूम

दरिंदों की हैवानियत का शिकार हुई मासूम बार-बार बेहोश हो जा रही है। होश में आने पर वह सिर्फ अपना नाम बता पा रही है। घुघली पुलिस की जांच में अब तक जो बातें सामने आई हैं उसके मुताबिक, मासूम कुशीनगर जिले की रहने वाली है। उसका परिवार पांच वर्षों से घुघली क्षेत्र में रहा रहा है।

घुघली थाने के एसओ आरके सिंह का कहना है की घटना की एक-एक कड़ी की काफी सघनता से जांच की जा रही है। घटना के वक्त नहर से होकर गुजरने वालों से पूछताछ की जा रही है। बच्ची के होश में आने पर कुछ और भी जानकारी मिलने की उम्मीद है। उन्‍होंने बताया कि इस मामले में दुष्कर्म और पॉक्‍सो एक्ट के तहत केस दर्ज कर आरोपितों को ढूंढ़ने के लिए पुलिस टीम गठित कर दी गई है।

Related Post

जानिए, आखिर क्यों अंबेडकर के नाम के साथ जुड़ेगा ‘राम’ का नाम ?

Posted by - March 29, 2018 0
लखनऊ। यूपी में अब डॉ. भीमराव अंबेडकर के नाम के साथ ‘रामजी’ नाम जोड़कर लिखा जाएगा। अंग्रेजी में तो अंबेडकर का नाम…

SC/ST एक्ट पर कोर्ट की तल्ख टिप्पणी – ‘…इसका मतलब हम सभ्य समाज में नहीं रहते’

Posted by - May 16, 2018 0
सुप्रीम कोर्ट ने कहा – ‘अनुच्‍छेद-21 में जीवन के मौलिक अधिकार के खिलाफ संसद भी नहीं बना सकती कानून’ केन्द्र…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *