अरुण शौरी का पीएम पर हमला, बोले – झूठ मोदी सरकार की पहचान

25 0

जाने-माने पत्रकार व पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी ने रविवार (26 नवंबर) को आरोप लगाया कि झूठ नरेंद्र मोदी सरकार की पहचान है और यह नौकरियां पैदा करने जैसे कई वादों को पूरा करने में विफल रही है। अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में मंत्री रह चुके शौरी ने देश के लोगों से सरकार के कार्यो को सूक्ष्म रूप से आंकने का आग्रह किया। ‘टाइम्स लिट फेस्ट’ में भाग लेते हुए शौरी ने कहा कि वह कई उदाहरण दे सकते हैं जिसमें अखबारों में पूरे पन्ने का विज्ञापन देकर ‘सरकार ने सिर्फ मुद्रा योजना द्वारा साढ़े पांच करोड़ से ज्यादा नौकरियां पैदा करने का आंकड़ा दिया है।’ उन्होंने कहा, “लेकिन, हमें इस पर आश्चर्यचकित नहीं होना चाहिए..झूठ सरकार की पहचान बन चुका है।” शौरी ने कहा कि हमें एक व्यक्ति या नेता लंबे समय से क्या कर रहा है, उसकी जांच नहीं करनी चाहिए, बल्कि उसके कार्य पर बारीकी से नजर रखनी चाहिए।

महात्मा गांधी का उद्धरण देते हुए उन्होंने कहा, “गांधीजी कहते थे कि वह (व्यक्ति) क्या कर रहा यह मत देखिए, बल्कि उसके चरित्र को देखिए और आप उसके चरित्र से क्या सीख सकते हैं।” उन्होंने कहा, “हमने दो बार (पूर्व प्रधानमंत्री) वी.पी.सिंह व नरेंद्र मोदी के मामले में चूक कर दी। वे वही बात कहते हैं जो उस क्षण के लिए सुविधाजनक होती है।” शौरी ने सरकार द्वारा शीतकालीन सत्र को छोटा करने की भी कड़ी आलोचना की।

पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी ने रविवार को नागपुर में कहा कि नागरिकों के बीच सामाजिक और आर्थिक समानता के लिये कोई भी प्रयास तबतक संभव नहीं हैं जब तक कि कोई भी सरकार वास्तविक अर्थों में धर्मनिरपेक्ष नहीं हो। उन्होंने कहा कि न्याय और सामाजिक शांति की मांग है कि मानव विकास का प्राथमिकता के आधार पर समाधान किया जाना चहिए और इसे न्यायसंगत बनाना चाहिए।

Related Post

ग्राम स्वराज अभियान : 28 मई तक रोशन हो जाएंगे यूपी के बाकी बचे 837 गांव और मजरे

Posted by - May 23, 2018 0
ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने दिए निर्देश, कहा – बिजलीघरों व उपकेन्द्रों का नियमित दौरा करें अधिकारी लखनऊ। प्रदेश के…

दुनिया पर फिर मंडराया मंदी का खतरा, रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा वैश्विक कर्ज

Posted by - April 21, 2018 0
दुनिया पर कर्ज बढ़कर 164 लाख करोड़ डॉलर हुआ, मंदी आई तो सामना करना होगा मुश्किल वाशिंगटन। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF)…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *