पाक में सरकार विरोधी प्रदर्शन में 150 घायल, लाइव कवरेज बैन

89 0
  • क़ानून मंत्री ज़ाहिद हमीद के इस्तीफ़े की मांग कर रहे थे इस्लामिक प्रदर्शनकारी

इस्‍लामाबाद। पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद के पास पिछले 20 दिनों से ज़बरदस्त विरोध प्रदर्शन हो रहा है जिसे तहरीक-ए-लब्बैक या रसूल अल्लाह इस्लामिक संगठन ने बुलाया है। इस्लामिक प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच झड़प में 150 से अधिक लोग घायल हुए हैं। शनिवार सुबह इस धरने को खत्म कराने के लिए सुरक्षाबलों ने प्रदर्शनकारियों पर कार्रवाई की जिससे ज़बरदस्त हंगामा खड़ा हो गया। प्रदर्शन खत्‍म करने के लिए विशेष पुलिस के 8500 जवान लगाए गए।

धरने को खत्म कराने के लिए इस्‍लामिक प्रदर्शनकारियों पर कार्रवाई करते सुरक्षाबल के जवान

इस्लामिक प्रदर्शनकारी क़ानून मंत्री ज़ाहिद हमीद के इस्तीफ़े की मांग कर रहे थे। ये धरना फ़ैज़ाबाद इंटरचेंज पर दिया जा रहा था। ये वो जगह है जो राजधानी इस्लामाबाद को देश के दूसरे हिस्से से जोड़ती है। सोशल मीडिया और मीडिया के ज़रिए प्रदर्शनकारियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई का कराची, लाहौर, सियालकोट जैसी जगहों पर भी असर होता देख प्रशासन ने सभी निजी समाचार चैनलों को ऑफ़ एयर कर दिया है।

तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान यानी टीएलपी एक इस्लामिक राजनीतिक दल है, जिसका नेतृत्व खादिम हुसैन रिज़वी कर रहे हैं। इस्लामिक आंदोलन के रूप में टीएलपी का गठन 1 अगस्त, 2015 को कराची में हुआ था, जो धीरे-धीरे राजनीति में प्रवेश करता चला गया। इसका मुख्य मक़सद पाकिस्तान को एक इस्लामिक राज्य बनाना है, जो शरियत-ए-मोहम्मदी के अनुसार चले। इस संगठन की पहली सभा में 75 लोग शामिल हुए और इन्हीं लोगों के साथ यह आंदोलन शुरू हुआ था।

अपने मक़सद के बारे में तहरीक-ए-लब्बैक ने लिखा है कि वह देश की अर्थव्यवस्था को विदेशी ताकतों के चंगुल से बचाना चाहते हैं। इनके अनुसार, अंतरराष्ट्रीय नेताओं ने जो नीतियां पाकिस्तान के लिए बनाईं उससे यहां के नागरिकों का कोई भला नहीं हुआ, हमें आत्मनिर्भर होने की ज़रूरत है। वेबसाइट में लिखा है कि आत्मनिर्भर होने का मतलब यह नहीं कि हम खुद को अलग-थलग कर लेंगे, हम सिर्फ योग्यताओं का बेहतर इस्तेमाल करने की बात कर रहे हैं ताकि अच्छे कल की ओर बढ़ सकें।

Read More : https://aajtak.intoday.in/gallery/police-protesters-clash-islamabad-pakistan-tear-gas-shell-fired-tkha-1-16502.html

Related Post

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *