चीन के स्कूल में ड्रग्स देकर हो रहा बच्चों का उत्पीड़न!

44 0

पेइचिंग : चीन में इन दिनों स्कूल में बच्चों को ड्रग्स देकर उनके उत्पीड़न का मामला गरमाता जा रहा है। मामला सामने आने के बाद पैरंट्स विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। पेइचिंग के एक प्री-स्कूल में जाने वाले बच्चों के शरीर पर सुई के निशान नजर आने के बाद पुलिस ने इस कथित बाल उत्पीड़न की जांच शुरू कर दी है। नाराज अभिभावकों ने बताया कि आरवाईबी एजुकेशन न्यू वर्ल्ड किंडरगार्डन में बच्चों को कुछ गोलियां भी खाने को दी जाती थीं। बता दें कि आरवाईबी चीन का प्रतिष्ठित शैक्षणिक संस्थान है। चीन के 300 शहरों में इसके स्कूल हैं।

अभिभावकों ने कथित उत्पीड़न की जानकारी बीते बुधवार को अधिकारियों को दी जिसके बाद पुलिस ने जांच शुरू की। आरवाईबी ने अभिभावकों से माफी मांगी है और कहा है कि वह पुलिस जांच में सहयोग कर रहे हैं। कंपनी ने एक बयान में कहा कि इस मामले में जिन शिक्षकों के नाम आए हैं उन्हें निलंबित कर दिया गया है।

सिन्हुआ न्यूज एजेंसी के मुताबिक, अभिभावकों का कहना है कि जो बच्चे क्लास में अनुशासित नहीं रहते थे उन्हें कपड़े उतरवाकर खड़ा किया जाता था या फिर एक अंधेरे कमरे में बंद कर दिया जाा है। कम से कम 8 बच्चों को अज्ञात दवाइयों के इंजेक्शन दिए गए हैं। स्कूल में पढ़ने वाले एक बच्चे के पिता ने बताया कि उनके बच्चे को रोज दोपहर के खाने के बात सफेद रंग की 2 गोलियां दी जाती थीं और सोने के लिए कहा जाता था। जिन बच्चों को ड्रग्स देने का आरोप है उनमें 2 साल से 6 साल तक के बच्चे शामिल हैं।

Related Post

दहेज उत्‍पीड़न में सीधे गिरफ्तारी पर फिर से विचार करेगा सुप्रीम कोर्ट

Posted by - November 29, 2017 0
एनजीओ मानव अधिकार मंच ने दाखिल की है याचिका, जनवरी के तीसरे हफ्ते में होगी सुनवाई नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट दहेज…

कम हो सकती हैं सोने की कीमतें, तीन महीनों में मांग में 12 फीसदी की गिरावट

Posted by - May 4, 2018 0
वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल (WGC) की ताजा रिपोर्ट में हुआ खुलासा, वैश्विक स्‍तर पर भी डिमांड घटी मुंबई। अगर आप सोना खरीदने…

पाक फायरिंग में अपने जन्मदिन पर ही शहीद हुआ बीएसएफ जवान

Posted by - January 3, 2018 0
जम्मू। जम्‍मू-कश्‍मीर के सांबा सेक्‍टर में पाकिस्‍तान रेंजर्स के जवानों द्वारा की गई गोलीबारी में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) का…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *