अब पीएफ खाते में दिखेगा ईटीएफ में निवेश का हिस्सा

21 0

अब आपकी पीएफ की रकम ईटीफ और रुपये में दिखेगी । ईपीएफओ के सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज की बैठक में फैसला हुआ है कि फिलहाल 4 फीसदी रकम ईटीफ यूनिट के तौर पर दिखेगी। बाकी रकम रकम कैश के तौर पर पीएफ खाते में दिखेगी। लेकिन भविष्य में ईटीएफ यूनिट का प्रतिशत बढ़ सकता है। ईपीएफओ फिलहाल आपके फंड का 15 फीसदी ईटीएफ के जरिए शेयर बाजार में निवेश करता है। यही नहीं ईपीएफओ ने अब निजी क्षेत्र के डबल ए प्लस बॉन्ड्स में भी निवेश का फैसला किया है। इसके पहले वो ट्रिपल ए रेटिंग वाले बॉन्ड्स में ही निवेश करता था।

बता दें कि सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज यानि सीबीटी ईपीएफओ के लिए निर्णय लेने वाली सर्वोच्च इकाई है। ईपीएफओ ने अब तक ईटीएफ में 32300 करोड़ रुपये का निवेश किया है। इस बैठक में ईटीएफ यूनिट को रिडीम करने का फॉर्मूला भी तय हुआ है जिसके मुताबिक रिटायरमेंट या पीएफ खाता बंद करने पर ईटीएफ यूनिट रिडीम हो सकेगी। इसके अलावा क्लेम सेटलमेंट की प्रक्रिया तेज़ करने की भी कवायद जारी है और आगे सेंट्रलाइज्ड पेमेंट सिस्टम को मंज़ूरी मिल सकती है। अब एनपीसीआई के जरिए पेमेंट होगा। श्रम मंत्री की तरफ से कहा गया है कि पेंशन कॉन्ट्रिब्यूशन बढ़ाने से जुड़े विवाद को लेकर 15 दिसम्बर को पेंशनर्स के साथ बैठक होगी। ब्याज दरों पर फैसला अगली बैठक में संभव है।

Related Post

मथुरा में अतिक्रमण हटाने पहुंचे हेड कांस्टेबल को जिंदा फूंकने का प्रयास

Posted by - May 3, 2018 0
मथुरा। जिले के वृंदावन थानाक्षेत्र के एक गांव में अवैध अतिक्रमण की शिकायत मिलने के बाद बुधवार को पहुंची पुलिस…

बाल-बाल बचे भाजपा विधायक, हमलावरों ने कार पर बरसाईं गोलियां

Posted by - June 18, 2018 0
लोनी के विधायक नंदकिशोर गुर्जर पर जानलेवा हमला, पुलिस चौकी में छिपकर बचाई जान गाजियाबाद। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार…

त्रिपुरा, मेघालय और नागालैंड में विधानसभा चुनावों की तारीखों का ऐलान

Posted by - January 18, 2018 0
त्रिपुरा में 18 फरवरी, मेघालय और नागालैंड में 27 फरवरी को वोटिंग, नतीजे 3 मार्च को नई दिल्ली। मुख्‍य चुनाव आयुक्‍त…

पनामा केस में पाक के वित्त मंत्री डार के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट

Posted by - October 30, 2017 0
इस्‍लामाबाद। पनामा पेपर्स मामले से जुड़े भ्रष्‍टाचार के एक मामले में कोर्ट के समक्ष पेश नहीं होने पर पाकिस्‍तान के वित्त…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *