Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

210 सरकारी वेबसाइटों ने ही लीक कर दीं आधार से जुड़ी जानकारियां

51 0
  • यूआईडीएआई ने कहा – हमारी ओर से आधार ब्‍योरे को कभी सार्वजनिक नहीं किया गया

नई दिल्ली। आधार जारी करने वाली संस्था भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) ने कहा है कि केंद्र और राज्य सरकार की 200 से अधिक वेबसाइटों ने कुछ आधार लाभार्थियों के नाम और पते जैसी जानकारियां सार्वजनिक कर दीं। यूआईडीएआई ने एक आरटीआई के जवाब में कहा कि उसने इस उल्लंघन पर संज्ञान लिया है और इन वेबसाइटों से जानकारियां हटवा दी हैं। यह स्पष्ट नहीं है कि यह उल्लंघन कब हुआ। यूआईडीएआई 12 अंकों की विशिष्ट पहचान संख्या जारी करता है जो देश में कहीं भी पहचान और घर के पते का सबूत होती है।

यूआईडीएआई ने कहा कि उसकी ओर से आधार के ब्योरे को कभी सार्वजनिक नहीं किया गया। संस्था ने कहा, ‘यह पाया गया है कि शैक्षिक संस्थानों समेत केंद्र सरकार, राज्य सरकार के विभागों की तकरीबन 210 वेबसाइटों पर लाभार्थियों के नाम, पते, अन्य जानकारियां और आधार संख्याओं को आम जनता की सूचना के लिए सार्वजनिक कर दिया गया।’ उसने एक आरटीआई अर्जी के जवाब में कहा कि यूआईडीएआई ने इस पर ध्यान दिया है और इन वेबसाइटों से आधार का ब्योरा हटा दिया गया है।

आरटीआई के जवाब में कहा गया है, ‘यूआईडीएआई का बहुत व्यवस्थित तंत्र है और वह उच्च-स्तरीय डेटा सुरक्षा बनाए रखने के लिए लगातार अपने तंत्र को उन्नत बना रहा है।’ इसमें कहा गया है कि आधार पारिस्थितिकी तंत्र को इस तरह से बनाया गया कि इसकी डेटा सुरक्षा और निजता सुनिश्चित की जा सके जो इस तंत्र का अहम हिस्सा है। यूआईडीएआई ने कहा कि विभिन्न नीतियों और प्रक्रियाओं की समीक्षा की गई है, इन्हें समय-समय पर अपडेट किया गया है। यूआईडीएआई परिसरों के भीतर और बाहर, खास तौर पर डेटा केंद्रों में डेटा की सुरक्षा के लिए पर्याप्त व्यवस्था की गई है। साथ ही डेटा की सुरक्षा और निजता मजबूत करने के लिए नियमित आधार पर सुरक्षा जांच की जाती है। इसके अलावा डेटा को और अधिक सुरक्षित बनाने के लिए हरसंभव कदम उठाए गए हैं।

Read More : https://khabar.ndtv.com/news/business/210-government-websites-made-aadhaar-details-public-says-uidai-1777398

Related Post

बच्चों से कुकर्म करने वालों को भी होगी फांसी ! POCSO एक्ट होगा जेंडर न्यूट्रल

Posted by - April 29, 2018 0
नई दिल्ली। अब तक बच्चियों के रेपिस्ट के खिलाफ पॉक्सो एक्ट का इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन आने वाले दिन…

मेक्सिको जा रहीं मार्क जुकरबर्ग की बहन से विमान में छेड़छाड़

Posted by - December 2, 2017 0
मेक्सिको :  फेसबुक के संस्थापक मार्क जकरबर्ग की बहन रैंडी जकरबर्ग से अलास्का एयरलाइंस की फ्लाइट में कथित छेड़छाड़ का…

देवरिया के अश्विनी ने एक घंटे में लगाए 2760 पुशअप, बनाया वर्ल्‍ड रिकॉर्ड

Posted by - October 9, 2017 0
यूपी के देवरिया जिले के बॉक्सर अश्विनी सिंह ने एक घंटे में सबसे अधिक पुशअप बनाने का कीर्तिमान कायम किया…

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने ओवल ऑफिस में कुछ इस तरह मनाई दीपावली

Posted by - October 18, 2017 0
वाशिंगटन । अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने निक्की हेली, सीमा वर्मा सहित अपने प्रशासन के वरिष्ठ भारतीय अमेरिकी सदस्यों तथा समुदाय…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *