दक्षिण कोरिया के पूर्वी तट पर आया 5.4 तीव्रता का भूकंप

65 0
  • रिकॉर्ड के मुताबिक कोरियाई प्रायद्वीप में यह दूसरा सबसे शक्तिशाली भूकंप

दक्षिण कोरिया के दक्षिण पूर्वी तट पर बुधवार को 5.5 तीव्रता का भूकंप आया. भूकंप के कारण कुछ खिड़कियां टूट गई और दीवारें ढह गई, लेकिन किसी के हताहत होने की सूचना नहीं मिली है. समाचार एजेंसी योन्हाप ने इसकी जानकारी दी. बता दें कि फिलहाल दक्षिण कोरिया अमेरिका के साथ दक्षिण पूर्वी तट पर नौसेनिक अभ्यास कर रहा है.

बता दें कि आमतौर पर कोरयाई प्रयद्वीप में भूकंप के इतने तेज झटके नहीं आते हैं. रिकॉर्ड के मुताबिक यह दूसरा सबसे शक्तिशाली भूकंप है.संयुक्त राज्य भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण के मुताबिक पोहांग बंदरगाह शहर के 9.3 किलोमीटर (5.8 मील) उत्तर-पश्चिमी तट पर भूकंप का केंद्र था. दक्षिण कोरिया के राज्य संचालित कोरिया मौसम प्रशासन ने भूकंप को इसी तर्ज पर मापा, लेकिन उन्होंने कहा कि भूकंप केंद्र पोहांग के अंदर था.

भूकंप से ढह गई दीवारें

300 किलोमीटर (186 मील) दूर से राजधानी में रहने वाले निवासियों ने भी भूकंप के झटके महसूस किए. उन्होंने बताया कि भूकंप ने  उनकी इमारतों को हिलाकर रख दिया था. दक्षिण कोरियाई मीडिया ने बताया कि भूकंप के कारण पार्क की गई कारों पर कई दीवारें ढह गई. कुछ बिल्डिंगों की खिड़कियां टूट गई और लोग जान बचाने के लिए खेल के मैदान में आ गए थे.

ईरान-इराक में भूकंप ने मचाई थी तबाही

ईरान-इराक में रविवार की रात भूकंप ने भीषण तबाही मचाई थी. ईरान-इराक सीमा पर आए 7.3 तीव्रता के भीषण भूकंप से दोनों देशों में 400 से ज्यादा लोगों की जान चली गई. हजारों लोग घायल हुए. अधिकारियों के अनुसार इससे ईरान में 407 लोगों की मौत हो गई और 6700 अन्य घायल हो गए. वहीं, इराक के गृह मंत्रालय के अनुसार देश के उत्तरी कुर्द क्षेत्र में भूकंप से कम से कम सात लोगों की जान गई है और 535 अन्य घायल हुए हैं.

Read more:  https://aajtak.intoday.in/story/south-korea-southeastern-coastal-region5-5-magnitude-earthquake-1-965010.html

Related Post

अमेरिका बोला – म्यांमार पर बैन से नहीं सुलझेगा रोहिंग्‍या संकट

Posted by - November 15, 2017 0
रोहिंग्या संकट को लेकर अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने बड़ा बयान दिया है. बुधवार को उन्होंने कहा कि रोहिंग्या…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *