स्मॉग पर गरमाई सियासत, केजरी व कैप्टन पर भड़के खट्टर

65 0
दिल्ली-एनसीआर में खतरनाक स्तर पर पहुंच चुके वायु प्रदूषण, स्मॉग को लेकर सियासत इतनी गरमा गई है कि सीएम खट्टर, केजरीवाल और कैप्टन पर भड़क गए। वायु प्रदूषण के स्तर में हरियाणा को कमी लाने के लिए लिखे गए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के पत्र का जवाब मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने दे दिया है। मनोहर लाल ने वायु प्रदूषण के स्तर में कमी लाने के लिए न केवल अपनी प्रतिबद्धता दोहराई है, बल्कि केजरीवाल और पंजाब सरकार को लपेटे में लिया है।
मनोहर का निशाना बिना नाम लिए पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह पर भी है। केजरीवाल को लिखे पत्र में मनोहर लाल ने कहा है कि कोई व्यक्ति, सरकार या संगठन वायु प्रदूषण का स्तर नहीं सुधार सकता। समस्या के समाधान के लिए सामूहिक प्रयत्न करते हुए हर किसी को अपनी भूमिका निभानी होगी। साथ ही कड़ी व्यवस्था बनाने केलिए कदम उठाने होंगे। मनोहर लाल अपने जवाब में यहीं नहीं रुके हैं, उन्होंने केजरीवाल को चुनावी हितों के लिए पंजाब व हरियाणा के किसानों की पराली की समस्या उठाने के लिए भी घेरा है।

मनोहर लाल ने लिखा है कि हरियाणा ने पराली जलाने से किसानों को रोकने के लिए पूरी ताकत झोंकी हुई है। नासा की सेटेलाइट इमेज से प्राप्त आंकड़े इसके गवाह है कि हरियाणा में 2014 के बाद से पराली जलाने के मामलों में कितनी कमी आई है। उन्होंने केजरीवाल से पूछा है कि उन्होंने दिल्ली में 40 हजार परिवारों के चालीस हजार हेक्टेयर में की जा रही धान की खेती से उत्पन्न होने वाली पराली को जलने से रोकने के लिए कौन से कदम उठाए हैं।

Related Post

लखनऊ में कक्षा एक के छात्र को इंटर की छात्रा ने मारा चाकू, हालत गंभीर

Posted by - January 17, 2018 0
घायल छात्र स्कूल के टॉयलेट में लहूलुहान हालत में मिला, पुलिस कर रही मामले की छानबीन लखनऊ। राजधानी लखनऊ में…

सत्तू पार्टी में रिक्शा चलाकर पहुंचे तेजप्रताप, हैंडपम्प से पानी निकाल किया स्नान

Posted by - July 10, 2018 0
पटना। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के  बड़े बेटे और बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव के कई रंग देखने…

अब 20 लाख रुपये तक की ग्रैच्युटी होगी टैक्स फ्री, संसद से बिल पास

Posted by - March 22, 2018 0
ग्रैच्युटी से संबंधित उपदान भुगतान (संशोधन) विधेयक को राज्‍यसभा से मिली मंजूरी नई दिल्ली। ग्रैच्युटी से संबंधित उपदान भुगतान (संशोधन)…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *