लोढ़ा कमेटी की सिफारिशों के बाद एक्सपर्ट कॉलम नहीं लिख पाएंगे गावस्‍कर

22 0

मुंबई  : कुछ महीने पहले ही पूर्व क्रिकेटर सुनील गावसकर को मजबूरी में अपनी प्लेयर मैनेजमेंट एजेंसी को बीसीसीआई के निर्देश पर बंद करना पड़ा था। बीसीसीआई ने ‘हितों के टकराव’ को आधार बनाते हुए यह निर्देश दिया था क्योंकि पूर्व क्रिकेटर बतौर कॉमेंटेटर भी अपनी सेवाएं देते हैं। अगर बीसीसीआई लोढ़ा कमिटी की सिफारिशों को लागू करती है तो इस दिग्गज खिलाड़ी की मुश्किलें और बढ़ सकती हैं। गावसकर को क्रिकेट कॉमेंट्री और बतौर एक्सपर्ट कॉलम लिखने और स्पॉन्सर्ड अवॉर्ड/ रेटिंग कार्यक्रमों में शामिल होने के बीच में से किसी एक को चुनना होगा।

24 अक्टूबर को हुई कमिटी ऑफ ऐडमिनिस्ट्रेटर्स (COA) की मीटिंग में इस मुद्दे पर भी चर्चा की गई। सीओए मीटिंग में फैसला किया गया, ‘बीसीसीआई इस बात की जांच करेगी कि कॉमेंटेटर के तौर पर सेवा देने वाले लोगों को बतौर एक्सपर्ट स्पॉन्सर्ड कॉलम लिखने की छूट मिल सकती है? साथ ही इस बात की भी जांट की जाएगी कि कॉमेंट्री के काम के साथ ही प्रायोजित अवॉर्ड और रेटिंग समारोह में हिस्सा लिया जा सकता है या नहीं?’

गावसकर के साथ इस लिस्ट में कुछ और कॉमेंटेटर भी शामिल हैं। पूर्व क्रिकेटर संजय मांजरेकर, मुरली कार्तिक, हर्षा भोगले भी इस वक्त कॉमेंट्री करते हैं। भोगले और मांजरेकर भी बतौर एक्सपर्ट अपना कॉलम लिखते हैं। इन दोनों खिलाड़ियों को भी कॉमेंट्री और एक्सपर्ट कॉलम में से किसी एक को चुनने के लिए कहा जा सकता है। गावसकर एक निजी चैनल से भी जुड़े हुए हैं और क्रिकेट अवॉर्ड और रेटिंग देने वाले फर्म के साथ भी वह काम कर रहे हैं।

Read more:https://navbharattimes.indiatimes.com/sports/cricket/cricket-news/bcci-commentators-may-have-to-give-up-on-expert-columns/articleshow/61622018.cms

Related Post

कर्नाटक

कर्नाटक के गुलबर्गा में बोले मोदी- किसान, आम आदमी विरोधी है कांग्रेस, सफाया जरूरी

Posted by - May 3, 2018 0
गुलबर्गा। कर्नाटक में होने जा रहे विधानसभा चुनाव से पहले पीएम नरेंद्र मोदी एक बार फिर राज्य में चुनावी जनसभा…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *