स्मॉग से दिल्ली में बिगड़े हालात, प्राइमरी स्कूल एक दिन बंद

40 0
  • ईपीसीए ने दिल्ली में तुरंत सभी पार्किंग स्थलों की फीस चार गुना बढ़ाने के आदेश दिए
  • एनजीटी ने कहाइमरजेंसी जैसी स्थिति, प्रदूषण रोकने को उठाए गए कदमों की जानकारी मांगी

नई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर में जहरीले स्मॉग ने एक बार फिर दस्तक दे दी है। केजरीवाल सरकार ने स्मॉग के मद्देनजर दिल्ली के सभी प्राइमरी स्कूलों (पांचवीं तक) को बुधवार को बंद रखने का आदेश दिया है। दिल्ली के डिप्‍टी सीएम मनीष सिसोदिया ने बताया कि अगर जरूरी हुआ तो स्कूलों को बुधवार के बाद भी बंद किया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि स्कूलों में असेंबलिंग समेत आउटडोर एक्टिविटीज को अस्थायी तौर पर बंद करने का आदेश दिया गया है।

दिल्‍ली में मंगलवार को कुछ इस तरह स्‍कूल पहुंचे बच्‍चे

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) ने कहा है कि दिल्ली में इमरजेंसी जैसी स्थिति है। एनजीटी ने यूपी, पंजाब, हरियाणा और दिल्ली सरकार को निर्देश दिया है कि वे वायु प्रदूषण को रोकने के लिए उठाए गए कदमों की जानकारी दें। एनजीटी ने इन राज्यों से 9 नवंबर तक ‘एक्शन टेकन रिपोर्ट’ जमा करने का आदेश दिया है। इसके अलावा एनजीटी ने दिल्ली सरकार, दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति, दिल्ली के तीनों नगर निगमों और पुलिस को यह सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि किसी भी बाजार में प्लास्टिक के थैलों का इस्तेमाल न हो।

दिल्ली मेट्रो को 10 दिनों तक किराया कम करने का आदेश
इस बीच एन्वायरमेंट पलूशन (प्रिवेंशन एंड कंट्रोल) अथॉरिटी (EPCA) ने प्रदूषण संकट से निपटने के लिए तत्काल कुछ कदम उठाने के आदेश दिए हैं। ईपीसीए ने दिल्ली मेट्रो को पीक आवर में कम से कम 10 दिनों तक किराया कम रखने, ज्यादा कोच लगाने और फेरे बढ़ाने का आदेश दिया है। ईपीसीए ने दिल्ली में तुरंत सभी पार्किंग स्थलों की फीस चार गुना बढ़ाए जाने के आदेश दिए हैं। इस बीच मेट्रो सुरक्षा में तैनात सीआईएसएफ सुरक्षाबलों के बीच 8,000, एयरपोर्ट पर 5,000 और बाकी जगहों पर 1,000 मास्क बांटे गए।

Read More : https://navbharattimes.indiatimes.com/metro/delhi/other-news/its-like-emergency-situation-in-delhi-says-ngt/articleshow/61546684.cms

Related Post

वैज्ञानिकों ने खोजा ऐसा ग्रह, जहां 7 घंटे में इंसान की उम्र हो जाएगी 1251 साल !

Posted by - October 5, 2018 0
नई दिल्‍ली। अंतरिक्ष के कई ऐसे अनसुलझे रहस्य हैं जिन तक वैज्ञानिक आज भी पहुंच नहीं पाए हैं। हालांकि वैज्ञानिक…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *