पटना हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, अब समान काम के लिए समान वेतन

44 0
  • बिहार के नियोजित शिक्षकों को कोर्ट से मिली बड़ी राहत

पटना : नियोजित शिक्षकों के लिए पटना हाईकोर्ट ने मंगलवार को बड़ी राहत दी है. हाईकोर्ट ने नियोजित शिक्षकों के पक्ष में अपना फैसला सुनाते हुए कहा है कि समान काम के लिए समान वेतन की मांग सही है. पटना हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश राजेंद्र मेनन की खंडपीठ ने ने अपने फैसले में कहा है कि समान कार्य के लिए सरकार द्वारा समान वेतन नहीं देना संवैधानिक प्रावधानों का उल्लंघन है. मालूम हो कि मुख्य न्यायाधीश राजेंद्र मेनन और जस्टिस डॉ अनिल कुमार उपाध्याय की खंडपीठ ने मामले की सुनवाई करने के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया था.

नियोजित शिक्षकों की ओर से वरीय अधिवक्ताओं राजेंद्र प्रसाद सिंह, पीके शाही, विश्वनाथ प्रसाद सिन्हा ने शिक्षकों को मिल रहे वेतन में भेदभाव करने का आरोप लगाया था. वहीं, सरकार की ओर से अदालत में पेश हुए महाधिवक्ता ललित किशोर ने कहा कि शिक्षकों की नियुक्ति सरकार नहीं करती है. इसलिए समान काम के लिए समान वेतन का सिद्धांत नियोजित शिक्षकों पर लागू नहीं होगा.

Read more:  http://www.prabhatkhabar.com/news/patna/patna-niyojit-shikshak-teachers-patna-high-court-equal-pay-for-equal-work-judgment/1076881.html

Related Post

विवाहेतर संबंधों में सिर्फ पुरुष दोषी क्यों, सुप्रीम कोर्ट करेगा विचार

Posted by - December 9, 2017 0
नई दिल्ली। विवाहेतर संबंध बनाने पर महिला को अपराधी नहीं मानने की छूट देने वाला 157 साल पुराना कानून सुप्रीम…

‘आतंकवादी’ के बाद बीजेपी व आरएसएस को ‘हिन्दू उग्रवादी’ कहा सीएम सिद्धारमैया ने

Posted by - January 11, 2018 0
भाजपा ने किया पलटवार, कहा – वह कांग्रेस ही है जिसने अलगाववादियों का समर्थन किया बेंगलुरु। कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया…

केंद्रीय मंत्री गिरिराज बोले – ख्वाजा नहीं, भारत माता का है हिंदुस्तान

Posted by - October 5, 2017 0
नवादा: बिहार के केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह अपने एक विवादित बयान के कारण चर्चे में हैं। उन्होंने यह बयान अपने संसदीय…

JEE, NEET के क्वेश्चन पेपर अब सेट करेगा कम्प्यूटर, मुन्ना भाइयों की ऐसे लगेगी वाट

Posted by - July 18, 2018 0
नई दिल्‍ली। प्रतियोगी परीक्षाओं जैसे जेईई मेन, नीटए और यूजीसी नेट को लेकर कई तरह के एलान सामने आ रहे हैं। बता…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *