सूरत से पकड़े गए आतंकियों पर सियासी जंग, रुपाणी ने मांगा अहमद पटेल का इस्तीफा

36 0
  • गुजरात के सीएम बोले – जिस अस्‍पताल से एक आतंकी पकड़ा गया, अहमद पटेल उसके ट्रस्‍टी हैं

सूरत। सूरत से पकड़े गए आतंकी संगठन आईएसआईएस के दो आतंकियों में से एक कासिम अंकलेश्वर के सरदार पटेल हॉस्पिटल एंड हार्ट इंस्टीट्यूट में टेक्नीशियन था। अब इस मामले पर कांग्रेस और बीजेपी में बड़ी जंग छिड़ गई है। शुक्रवार को गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा है कि जिस अस्पताल से आईएस के आतंकी को पकड़ा गया है, कांग्रेस सांसद अहमद पटेल उस अस्पताल के ट्रस्टी हैं, इसलिए उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए और पूरे मामले पर अपनी सफाई देनी चाहिए।

अहमद पटेल ने दिया आरोपों पर जवाब

कांग्रेस के राज्यसभा सांसद अहमद पटेल ने बीजेपी की तरफ से लगाए गए सभी आरोपों को बेबुनियाद बताया है। उन्होंने कहा, ‘बीजेपी के सभी आरोप बेबुनियाद हैं। ये मामला राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा हुआ है इसलिए इस पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। आतंकियों पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए।’

जो दोषी हो उसे फांसी पर लटका दिया जाए : कांग्रेस

वहीं इस मामले को लेकर बीजेपी के सभी आरोपों को खारिज करते हुए गुजरात कांग्रेस के अध्यक्ष भरत सिंह सोलंकी ने कहा, ‘राज्य और केंद्र में बीजेपी की सरकार है, ऐसे में जो दोषी हो उसे फांसी पर लटका दिया जाए।’ उन्होंने कहा कि अस्पताल लोगों की सेवा के लिए है। इस मामले पर राजनीति न की जाए।

अस्पताल ने खारिज किया विजय रुपाणी का दावा

हालांकि सीएम विजय रुपाणी के इस दावे को अस्पताल ने खारिज कर दिया है। अस्पताल ने एक प्रेस रिलीज़ में कहा है कि कासिम उनके यहां काम करता था और उसकी नियुक्ति सभी नियमों के पालन के बाद हुई थी। अस्पताल के मुताबिक, 4 अक्टूबर, 2017 को कासिम नौकरी छोड़कर चला गया था। अस्पताल ने कहा है कि अफवाह फैलाई जा रही है कि अहमद पटेल और उनका परिवार अस्पताल के ट्रस्टी हैं, लेकिन इस अस्पताल के ट्रस्ट या मैनेजमेंट में अहमद पटेल या उनके परिवार का कोई भी सदस्य शामिल नहीं है।

क्या है पूरा मामला

आपको बता दें कि अहमदाबाद के खाडिया इलाके में बम विस्फोट की योजना बनाने वाले दो आतंकियों को गुजरात एटीएस ने पकड़ा था। कासिम टिम्बरवाला और उबेद मिर्ज़ा दोनों आतंकी खाडिय़ा में धार्मिक स्थल को निशाना बनाने की साजिश रच रहे थे। इसके लिए इनकी ओर से यहूदियों के आराधना स्थल की रेकी करने की बात सामने आई है। एक संदिग्ध आतंकी अंकलेश्वर के एक अस्पताल में लैब टेक्नीशियन के रूप में काम करता था, जबकि ओबेद मिर्जा सूरत में वकील के रूप में प्रैक्टिस कर रहा था।

Read More : http://abpnews.abplive.in/india-news/is-terrorist-case-in-gujarat-cm-vijay-roopani-demand-congress-mp-ahmad-patels-resignation-712972

 

Related Post

आतंकी प्रोफेसर ने मारे जाने से पहले पिता को किया फोन, बोला – ‘माफ कर देना’

Posted by - May 7, 2018 0
श्रीनगर। दक्षिण कश्मीर के शोपियां में रविवार (6 मई) को सुरक्षाबलों को उस समय एक बड़ी सफलता मिली जब उन्‍होंने…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *