परमाणु बम हमले की धमकी को हल्के में न ले अमेरिका : उ. कोरिया

66 0

न्यू यॉर्क : अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच परमाणु युद्ध की आशंकाओं को एक बार फिर बल मिला है। इस बार उत्तर कोरिया के वरिष्ठ अधिकारी ने अमेरिका को चेतावनी भरे अंदाज में कहा है कि वॉशिंगटन को प्योंगयांग की तरफ से प्रशांत महासागर में सबसे शक्तिशली न्यूक्लियर टेस्ट की धमकियों को गंभीरता से लेना चाहिए। बीते महीने उत्तर कोरिया ने अपने सबसे शक्तिशाली हाइड्रोजन बम का परीक्षण किया था, जिसके बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने प्योंगयांग को पूरी तरह बर्बाद करने तक की धमकी दे दी थी।

उत्तर कोरिया के विदेश मंत्री ने ट्रंप के इसी बयान पर जवाब देते हुए कहा था कि उनका देश प्रशांत महासागर में ताकतवर हाइड्रोजन बम का परीक्षण कर सकता है। वरिष्ठ राजदूत रि यॉन्ग पिल ने ‘सीएनएन’ से कहा कि परमाणु हमले की आशंका को गंभीरता से लिया जाना चाहिए। पिल ने कहा, ‘उत्तर कोरिया के विदेश मंत्री किम जोंग-उन की मंशाओं से पूरी तरह वाकिफ हैं, इसलिए मुझे लगता है कि आपको इन शब्दों को गंभीरता से लेना चाहिए।’

उत्तर कोरिया के विदेश मंत्री रि यॉन्ग हो बीते महीने संयुक्त राष्ट्र आमसभा में हिस्सा लेने न्यू यॉर्क पहुंचे थे, जहां उन्होंने यह कहा था कि उत्तर कोरिया प्रशांत महासागर में शक्तिशाली हाइड्रोजन बम टेस्ट कर सकता है। बीते महीने उत्तर कोरिया के हाइड्रोजन बम टेस्ट के परिणामस्वरूप संयुक्त राष्ट्र ने प्योंगयांग पर अब तक के सबसे कड़े प्रतिबंध लगाए थे।

उत्तर कोरिया की लगातार धमकियों की वजह से पड़ोसी देश हाई अलर्ट पर हैं। सितंबर में ही प्योंगयांग ने जापान के ऊपर से बलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया था। अमेरिका की तरफ से लगातार बढ़ते दबाव के बीच उत्तर कोरिया यूएस के अधीन आने वाले गुआम पर भी मिसाइल हमले की धमकी दे चुका है।

Read more: https://navbharattimes.indiatimes.com/world/america/north-korea-threat-of-most-powerful-nuclear-bomb-test-should-be-taken-literally/articleshow/61232821.cms

Related Post

पढ़ाई पूरी करने के लिए 32 साल की ऑक्सफोर्ड की इस स्टूडेंट ने उठाया अनोखा कदम

Posted by - October 16, 2018 0
लंदन। भारत में अक्‍सर महिलाओं के सामने शादी, पढ़ाई और कॅरियर को लेकर सवाल पूछे जाते हैं। हालांकि जिंदगी में…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *