ग्रामीण इलाकों में बचत बढ़ाने में कामयाब हुई प्रधानमंत्री जनधन योजना

113 0

अपने बैंक खाते खोलने वाले लोग अब ज्यादा बचत कर रहे हैं। यह दावा स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की इकॉनमिक रिसर्च विंग ने किया है। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि खाता खोलने वाले लोगों ने शराब और तंबाकू जैसी चीजों की खरीद पर भी कमी की है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि इससे ग्रामीण इलाकों में मुद्रास्फीति भी धीमी हो सकती है। जिस समय प्रधानमंत्री जनधन योजना लॉन्च की गई थी, उस समय आशंका जताई गई थी कि पैसे का ज्यादा मात्रा में सर्कुलेशन होने से मुद्रास्फीति प्रभावित हो सकती है। रिपोर्ट में खुदरा मुद्रास्फीति के डेटा का हवाला देते हुए बताया गया है कि जिन राज्यों में ग्रामीण इलाकों में 50 प्रतिशत से ज्यादा जनधन खाते हैं, उन राज्यों में मुद्रास्फीति पर सकारात्मक असर पड़ा है।

कुल मिलाकर 30 करोड़ जनधन खातों में से काफी खाते नोटबंदी के फैसले के बाद खोले गए हैं। देश भर के सिर्फ 10 राज्यों में कुल खातों की 75 प्रतिशत (करीब 23 करोड़ खाते) संख्या है। इनमें उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा 4.7 करोड़ खाते हैं। इसके बाद बिहार और पश्चिम बंगाल का नंबर आता है।

एसबीआई की स्टडी में ग्रामीण और शहरी कन्ज्यूमर प्राइस इंडेक्स पर जनधन खाते खुलने के प्रभाव को राज्य वार बताया गया है। यह रिसर्च का हिस्सा है, जिसे इस साल के आखिर तक जारी किया जाना है। रिपोर्ट में कहा गया है, ‘यह विश्लेषण इस बात की पुष्टि करता है कि अर्थव्यवस्था की औपचारिकता के अतिरिक्त, वित्तीय समावेशन में ठोस फायदे हैं, जिन्हें मुद्रास्फीति के आंकड़ों से समझा जा सकता है।’

Read More:https://navbharattimes.indiatimes.com/business/business-news/jan-dhan-accounts-keep-villagers-sober-slow-rural-inflation-study/articleshow/61096621.cms

Related Post

पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम के घर चोरों का धावा, बेशकीमती हीरे-जवाहरात उड़ाए

Posted by - July 8, 2018 0
चेन्‍नई। पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम के घर चोरी हो गई है। यह चोरी उनके चेन्नई…

बिस्किट-कुरकुरे के खाली प्‍लास्टिक पैकेट्स पर्यावरण को पहुंचा रहे नुकसान, नहीं होता है रिसाइकल

Posted by - October 13, 2018 0
नई दिल्ली। क्या आपने कभी सोचा है कि जिस बिस्किट के रैपर को आप रोड पर फेंक देते हैं, उसका…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *