मानवीय मूल्य संविधान का आधार, अगले आदेश तक रोहिंग्या को वापस ना भेजे केंद्र- SC

119 0

अवैध रूप से देश में रह रहे रोहिंग्या मुसलमानों के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि देश की सुरक्षा, आर्थिक हितों की रक्षा जरूरी है. लेकिन इसे मानवता के आधार से भी देखना चाहिए. हमारा संविधान मानवता के आधार पर बना है.सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को कहा है कि वह अगली सुनवाई तक कोई एक्शन ना ले और ना ही रोहिंग्या को वापस भेजे. अगली सुनवाई 21 नवंबर को होगी.

कोर्ट ने पिछली सुनवाई में कहा था कि दलीलें भावनात्मक पहलुओं पर नहीं बल्कि कानूनी बिन्दुओं पर आधारित होनी चाहिए. कोर्ट ने अपनी टिप्पणी में कहा कि मानवीय पहलू और मानवता के प्रति चिंता के साथ-साथ परस्पर सम्मान होना भी जरूरी है.

मशहूर हस्तियों की पीएम से अपील

बता दें कि मशहूर हस्तियों की तरफ से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक खुला खत लिखा गया है. इस खत में केंद्र सरकार से म्यांमार में जारी हिंसा के बीच रोहिंग्या शरणार्थियों को वापस उनके देश नहीं भेजने की अपील की गई है.

इस खुले खत में म्यांमार में रोहिंग्या के खिलाफ हो रही हिंसा और अत्याचारों का हवाला देते हुए पीएम मोदी से अपील की गई कि उन्हें भारत में रहने दिया जाए. इस खत पर मशहूर वकील प्रशांत भूषण, योगेंद्र यादव, सांसद शशि थरूर, पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम, ऐक्टिविस्ट तीस्ता शीतलवाड़ , पत्रकार करन थापर, सागरिका घोष, अभिनेत्री स्वरा भास्कर समेत कुल 51 मशहूर हस्तियों ने हस्ताक्षर किए हैं.

केंद्र ने दिया था 16 पन्नों का हलफनामा

केंद्र सरकार ने पिछले 16 सितंबर को सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दिया था और देश में अवैध रूप से रहने वाले रोहिंग्या मुसलमानों से देश को खतरा बताया था. 16 पन्ने के इस हलफनामे में केंद्र ने कहा कि कुछ रोहिंग्या शरणार्थियों के पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठनों से संपर्क हैं. ऐसे में ये देश की सुरक्षा के लिए खतरा बन सकते हैं और इन अवैध शरणार्थियों को भारत से जाना ही होगा.

रोहिंग्या मुस्लिमों के पक्ष में दायर की गई याचिका में केंद्र के इस रुख का विरोध किया कि याचिका न्यायालय में विचार योग्य नहीं है. चीफ जस्टिस दीपक्ष मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ ने दोनों पक्षों से कहा है कि केंद्र और दो रोहिंग्या याचिकाकर्ताओं कोर्ट की मदद के लिये सारे दस्तावेज और अंतरराष्ट्रीय कंवेन्शन का विवरण तैयार करें.

Read More: http://aajtak.intoday.in/story/rohingya-refugee-supreme-court-plea-hearing-modi-government-1-958062.html

Related Post

वजन घटा रहे हैं तो जान लें कैलोरी के बारे में ये बातें, वैज्ञानिकों ने किया है खुलासा

Posted by - November 3, 2018 0
कैलिफोर्निया। जब भी वजन घटाने की बात आती है तो कैलोरी का नाम सबसे पहले आता है। इंटरनेट पर कई…

कैंब्रिज एनालिटिका के दफ्तर में लगा था कांग्रेस का पोस्टर, स्मृति का निशाना

Posted by - March 29, 2018 0
नई दिल्ली। ब्रिटिश कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका की ओर से फेसबुक यूजर्स का डाटा चुराए जाने के मामले में कांग्रेस अब…

BJP विधायक बोले – ‘मैं गृहमंत्री होता तो देश के बुद्धिजीवियों को मरवा देता गोली’

Posted by - July 27, 2018 0
कर्नाटक के विजयपुर से विधायक हैं बसानगौड़ा पाटिल, वाजपेयी सरकार में रह चुके हैं मंत्री बंगलुरु। कर्नाटक के बीजेपी के…

ज्यादा कमाना है तो ब्रेस्टफीडिंग जरूर कराना, 50 की उम्र में 10 प्रतिशत तक बढ़ सकती है सैलरी

Posted by - October 8, 2018 0
लंदन। जो महिलाएं बच्चों को ब्रेस्टफीडिंग करवाती हैं वो 50 की उम्र होने तक दूसरी महिलाओं के मुकाबले 10 प्रतिशत…

जैश प्रमुख मसूद अजहर के भांजे तल्‍हा राशिद समेत तीन आतंकी ढेर

Posted by - November 7, 2017 0
आतंकियों के पास से अफगानिस्तान में नाटो फोर्स द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले हथियार बरामद श्रीनगर। सुरक्षाबलों ने कश्मीर में एक…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *