परमाणु हथियारों के खात्मे की कोशिशों के लिए आईकैन को नोबेल शांति पुरस्कार

70 0

इस साल का नोबेल शांति पुरस्कार परमाणु हथियारों के ख़ात्मे के लिए काम करने वाली अंतरराष्ट्रीय संस्था ‘इंटरनेशनल कैम्पेन टू अबोलिश न्यूक्लियर वेपन्स’ (आईकैन) को दिया गया है.नोबेल कमेटी की प्रमुख बेरिट रेइस-एंडरसन ने कहा कि परमाणु हथियारों पर रोक की संधि की आईकैन की कोशिशों के लिए ये पुरस्कार दिया गया है .उन्होंने उत्तर कोरिया का ज़िक्र करते हुए कहा ,”हम ऐसी दुनिया में रहते हैं जहां पर परमाणु हथियारों के इस्तेमाल का ख़तरा पहले से कहीं ज़्यादा है.”उन्होंने परमाणु हथियार संपन्न देशों से एटमी हथियार ख़त्म करने के लिए बातचीत शुरू करने की अपील की है.

क्या है आईकैन ?

आईकैन ख़ुद को सौ से ज़्यादा देशों में काम करने वाले ग़ैर-सरकारी संस्थाओं का समूह बताता है. इसकी शुरुआत ऑस्ट्रेलिया में हुई थी और साल 2007 में विएना में इसे औपचारिक तौर पर लॉन्च किया गया.स्विट्ज़रलैंड के जिनेवा में आधारित इस संस्था को दिसंबर में नोबेल पुरस्कार से नवाज़ा जाएगा.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक जुलाई में 122 देशों ने परमाणु हथियारों के निवारण के लिए संयुक्त राष्ट्र की संधि को मंज़ूरी दी थी, इसमें अमरीका, रूस, चीन, ब्रिटेन शामिल थे और फ्रांस इस वार्ता से बाहर रहा था.उत्तर कोरिया और अमरीका के बीच परमाणु हथियारों को लेकर बढ़े तनाव के बीच नोबेल पुरस्कार की घोषणा की गई है, ये निरस्त्रीकरण को बढ़ावा देने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है.

Read More: http://www.bbc.com/hindi/international-41525430

Related Post

केंद्रीय मंत्री गिरिराज बोले – ख्वाजा नहीं, भारत माता का है हिंदुस्तान

Posted by - October 5, 2017 0
नवादा: बिहार के केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह अपने एक विवादित बयान के कारण चर्चे में हैं। उन्होंने यह बयान अपने संसदीय…

बाबा रामदेव अब डेयरी कारोबार में उतरे, ले आए पतंजलि का दूध, दही और पनीर

Posted by - September 13, 2018 0
नई दिल्ली।  योगगुरु बाबा रामदेव के पतंजलि आयुर्वेद ने अब डेयरी के कारोबार में भी कदम रख दिया है। दिल्ली के…

गर्भवती महिलाओं के लिए वायु प्रदूषण है खतरनाक, कोख में पल रही बच्चियों पर पड़ता है ज्यादा असर

Posted by - November 20, 2018 0
नई दिल्ली। भारत के कई शहरों में जिस तरह से प्रदूषण बढ़ रहा है, वह काफी चिंता का विषय है।…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *