पूर्व मंत्री के सुरक्षा काफिले की गाड़ी में मिली थी हनीप्रीत, पूरी रात चली पूछताछ

55 0
  • पिछले कई दिनों से डेरा समर्थक सुखदीप कौर के बठिंडा स्थित घर में छिपी हुई थी हनीप्रीत

पंचकूला। डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की गोद ली बेटी हनीप्रीत को पंचकूला से सटे पंजाब के शहर जीरकपुर से मंगलवार को जिस समय गिरफ्तार किया गया तो वह पटियाला की ओर जाने की तैयारी में थी। वह जिस गाड़ी में पकड़ी गई वह पंजाब के एक पूर्व मंत्री के सुरक्षा काफिले में चलती थी। वह बठिंडा की एक डेरा प्रेमी महिला के साथ इनोवा कार में पटियाला की तरफ जा रही थी। हनीप्रीत के साथ सुखदीप कौर नामक इस महिला को भी गिरफ्तार कर लिया गया था। हनीप्रीत पिछले कई दिनों से बठिंडा में सुखदीप के घर में छिपी थी। बताया जाता है कि हनीप्रीत से पुलिस ने बुधवार तड़के तीन बजे तक पूछताछ की।

आईजी ममता सिंह सहित कई वरिष्‍ठ पुलिस अफसरों ने हनीप्रीत से पूछताछ की, लेकिन वह हर सवाल का नकारात्‍मक जवाब ही देती रही। हनीप्रीत को पुलिस बुधवार को अदालत में पेश कर रिमांड पर लेगी। उसे पंचकूला के चंडीगढ़ मंदिर थाने में रखा गया है। बता दें कि हनीप्रीत पर पंचकूला में 25 अगस्त को दंगे भड़काने की साजिश रचने एवं देशद्रोह का केस दर्ज है। पुलिस के अनुसार, उसने भागने की भी कोशिश की, लेकिन असफल रही। सूत्रों का कहना है कि हनीप्रीत जिस कार में थी, वह पंजाब के एक पूर्व मंत्री के सिक्योरिटी काफिले में चलती है, हालांकि हरियाणा पुलिस ने इससे इनकार किया है।

हनीप्रीत ने 2 अक्टूबर को कार में बैठे -बैठे एक चैनल को इंटरव्यू दिया था। इंटरव्यू जब ऑन एयर हुआ तो पुलिस एक्टिव हुई। पंचकूला के पुलिस कमिश्नर एएस चावला ने बताया कि मंगलवार दोपहर पुलिस को जानकारी मिली कि हनीप्रीत चंडीगढ़ से पटियाला की ओर जा रही है। इसके बाद एसीपी मुकेश मल्होत्रा टीम के साथ जीरकपुर पहुंच गए। पुलिस ने उनकी इनोवा कार का पीछा कर दोनों को गिरफ्त में ले लिया। पुलिस के अनुसार, हनीप्रीत सोमवार देर रात चंडीगढ़ पहुंची थी। यहां पर वह डेरे के एक पुराने अनुयायी के घर पर कुछ देर रुकी। इसके बाद उसने न्यूज चैनल को इंटरव्यू दिया। पुलिस को हनीप्रीत के बारे में देर रात जानकारी मिली तो चंडीगढ़ में सर्च के लिए टीमें रवाना कर दी गईं, लेकिन उससे पहले ही वह वहां से निकल चुकी थी।

कई दिनों से बठिंडा में थी हनीप्रीत

पुलिस सूत्रों ने बताया कि हनीप्रीत के साथ कार में सवार दूसरी महिला बठिंडा निवासी सुखदीप कौर थी। उसका पूरा परिवार डेरे का पुराना अनुयायी है। सुखदीप लगातार फोन के जरिए हनीप्रीत के संपर्क में थी। जब हनीप्रीत को राजस्थान में छापेमारी के बाद प्रदेश छोड़ना पड़ा तो सुखदीप ने हनीप्रीत को अपने घर में शरण दे दी थी। वही सभी जगह हनीप्रीत को अपने साथ लेकर जा रही थी। पता चला है कि हनीप्रीत रोहतक की सुनारिया जेल से फरार होने के बाद डेरा प्रमुख गुरमीत  के पैतृक गांव गुरसर मोडिया पहुंच गई थी। वहां से 2 सितंबर को वह उदयपुर में प्रदीप गोयल के पास पहुंच गई। पंचकूला के पुलिस कमिश्नर एएस चावला के अनुसार हनीप्रीत ने 2 सितंबर को गुरसर मोडिया से भागकर सुखदीप कौर से संपर्क किया। पिछले कई दिनों से वह बठिंडा में सुखदीप कौर के पास थी।

Read More : http://www.jagran.com/haryana/panchkula-police-interrogate-honeypreet-16807609.html

 

Related Post

जस्टिस जोसेफ बोले, मामला सुलझाने के लिए बाहरी दखल की जरूरत नहीं

Posted by - January 13, 2018 0
न्‍यायमूर्ति बोले – मामला संस्था के भीतर का है, इसे हल करने के लिए संस्था ही जरूरी कदम उठाएगी कोच्चि। मामलों…

लिंगायतों के बड़े नेता हैं येदियुरप्पा, मोदी ने कराई थी बीजेपी में वापसी

Posted by - May 17, 2018 0
बेंगलुरु। कर्नाटक विधानसभा चुनाव में बीजेपी को ऐतिहासिक जीत मिल गई है। जीत मिलने के बाद येदियुरप्पा ने गुरुवार को मुख्यमंत्री…

हैदराबाद में न्यूज एंकर ने घर की पांचवीं मंजिल से कूदकर दी जान

Posted by - April 2, 2018 0
डिप्रेशन की थी शिकार, सुसाइड नोट में लिखा- ‘मेरा दिमाग ही मेरा दुश्‍मन’ हैदराबाद। हैदराबाद में एक न्‍यूज चैनल की एंकर…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *