गोरखपुर में रोहिन में नाव पलटी, लकड़ियां लेने जा रहीं चार युवतियां डूबीं

134 0
  • नाव पर सवार थीं 7 महिलाएं और लड़कियां, स्‍थानीय लोगों ने तीन को डूबने से बचाया, बाकी की तलाश  

गोरखपुर। नदी पार कर सूखी लकड़ियां बीनने जा रही एक बच्ची समेत सात युवतियां बुधवार को नाव पलटने से डूब गईं। गोरखपुर के नयागांव के पास रोहिन नदी में हुई इस दुर्घटना के बाद एनडीआरएफ की एक टीम युवतियों की तलाश में जुटी है। हालांकि, तीन महिलाओं-लड़कियों को स्थानीय लोगों ने डूबने से बचा लिया। एनडीआरएफ टीम अपनी बोट और गोताखोरों को लेकर अन्य चार लोगों की तलाश कर रही है। उधर, इस दुर्घटना की सूचना के बाद काफी संख्या में आसपास गांव के लोग एकत्र हो गए। परिजन भी मौके पर हैं, रो-रोकर उनका बुरा हाल है। 

रोहिन नदी के‍ किनारे रोते-बिलखते डूबी युवतियों के परिवारीजन

गोरखपुर के नयागांव व रामपुर क्षेत्र की युवतियां-महिलाएं रोहिन नदी पार कर सूखी लकड़ियां चुनने जाती हैं। इसके लिए नाव का इस्तेमाल करना पड़ता है। रोज की भांति बुधवार को सात महिलाएं व युवतियां एक नाव पर सवार होकर नदी पार कर रही थीं। छोटी नाव चलाने वाला मनु उन लोगों को उस पार ले जा रहा था। नाव बीच मंझधार में पहुंची तो अचानक उसका संतुलन डगमगाया। नाव पर सवार सभी लोग डर गए। इसी बीच संतुलन और बिगड़ा और नाव पलट गई। नाव पलटने से सभी नदी में गिर गए और डूबने लगे। चिल्लाकर जान बचाने की गुहार लगाने लगे। 

स्थानीय लोगों की सहायता से तीन महिलाओं को सही सलामत बाहर निकाल लिया गया। नाविक मनु भी तैरकर बाहर आ गया, जबकि विवाहित निशा, रवीना निषाद (17),  बेबी (16), प्रीति (06) नदी की तेज धार में बह गईं। दुर्घटना की सूचना मिलते ही गोरखनाथ पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। कुछ देर में एनडीआरएफ की टीम भी बुला ली गई। प्रशासनिक अधिकारी व नगर विधायक डॉ. राधा मोहन दास अग्रवाल भी मौके पर पहुंच गए। मौके पर बड़ी संख्या में लोग जमा हो गए। रोते-बिलखते परिजन भी मौके पर हैं। डूबने वाली युवतियों के घरवालों का रो-रोकर बुरा हाल है। हर ओर चीख पुकार मची है। जिन लोगों को बचाया गया, उनको जिला अस्पताल में प्राथमिक उपचार के लिए भेजा गया है।

Related Post

कैग रिपोर्ट : अखिलेश सरकार में कहां खर्च हुए 97 हजार करोड़ रुपये, इसका हिसाब ही नहीं !

Posted by - September 22, 2018 0
नई दिल्ली।  कंपट्रोलर एंड ऑडिटर जनरल (CAG) ने अपनी जांच में उत्तर प्रदेश में सरकारी धन के इस्तेमाल में एक बड़े…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *