कानपुर के सरसौल कस्‍बे में विस्फोट से चार मकान ढहे, तीन की मौत

40 0

  अवैध रूप से विस्फोटक जमा करके मकान में बनाए जा रहे थे पटाखे और देशी बम

कानपुर के सरसौल कस्बे में एक मकान के अंदर विस्फोट से चार मकान ढह गए। मलबे में दबने से तीन लोगों की मौत हो गई जबकि कई और की दबे होने की आशंका है। फिलहाल मलबे से दो शवों को बाहर निकाल लिया गया है। जबकि बाकी की तलाश जारी है।

कस्बे के लोगों के अनुसार यहां रहने वाले बाबू सिंह के मकान में विस्फोट हुआ, पुलिस का मानना है कि मकान के अंदर अवैध रूप से विस्फोटक जमा करके पटाखे और देशी बम तैयार किए जा रहे थे। विस्फोट इतना भयंकर था कि आसपास के महात्मा साहू, अरविन्द सैनी और वीरेन्द्र के मकान भी ढह गए। तीनों परिवारों के लोग मलबे में दब गए।

ग्रामीणों ने मलबे से दो शव निकाल लिए जिनमें से एक बाबू सिंह का बेटा नीरज भी शामिल है। एक महिला और एक बच्ची को मलबे से गंभीर रूप से घायल अवस्था में निकाला गया है जिन्हें अस्पताल भेज दिया गया। पुलिस के साथ आईटीबीपी के जवान भी राहत कार्य में जुटे हैं, मलबे में अभी कितने लोग दबे हैं इसके बारे में कोई कुछ साफ नहीं बता पा रहा है। तीनों परिवारों के लोग अभी सामने नहीं आए हैं जिससे पता चल सके कि मलबे में कौन-कौन लोग दबे हैं, पुलिस अधकिकारियों ने कई लोगों के मरने की आशंका जतायी है।

बाबू सिंह जिसके मकान में विस्फोट हुआ उसका कहना है कि मकान किसी को किराए पर दे रखा था जो शायद अवैध पटाखे का कारोबार करता है। चारो तरफ बारूद की गंद फैली है। एटीएस और बम स्क्वायड की टीम मौके पर पहुंच चुकी है, जबकि एनडीआरएफ की टीम लखनऊ से रवाना हो चुकी है। डीएम और डीआईजी भी मौके पर पहुंच गए हैं। राहत कार्य युद्ध स्तर पर जारी है।

Read more:http://www.livehindustan.com/uttar-pradesh/kanpur/story-explosions-in-kanpur-four-houses-collapsed-many-killed-1580112.html

Related Post

केंद्रीय मंत्री के बिगड़े बोल, कहा – रेप की एक-दो घटनाओं पर बात का बतंगड़ न बनाएं

Posted by - April 22, 2018 0
संतोष गंगवार बोले – ऐसी घटनाएं दुर्भाग्यपूर्ण, मगर इतने बड़े देश में कभी-कभी उन्‍हें रोका नहीं जा सकता बरेली। कठुआ…

केदारनाथ के बाद अब खुले बदरीनाथ के कपाट, हजारों भक्तों ने लगाया जयकारा

Posted by - April 30, 2018 0
जोशीमठ। केदारनाथ के कपाट खुलने के एक दिन बाद सोमवार को बुद्ध पूर्णिमा के मौके पर भगवान बदरीनाथ मंदिर के…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *