Breaking News

टीकाकरण से 10 हजार से अधिक बच्चों की मौत

37 0
  • केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय की रिपोर्ट में खुलासा, बीते 10 साल में हुईं ये मौतें 

टीकाकरण के दुष्प्रभाव से पिछले 10 वर्षों में देश में 10,612  बच्चों की मौतें हुई हैं। यह चौंकाने वाला खुलासा यूनियन हेल्थ मिनिस्ट्री की रिपोर्ट में हुआ है। सबसे अधिक बच्चों की मौतें तेलंगाना व आंध्र प्रदेश में हुई हैं। इन दोनों प्रदेशों में कुल 5,857 बच्चों ने दम तोड़ा है।

इन आंकड़ों को देखकर विशेषज्ञ हैरान हैं। कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि ये मौतें टीकाकरण से नहीं बल्कि किसी अन्य कारण से हुई हैं, इसलिए इन बच्चों की मौतों के कारणों पर गहनता से अध्ययन करने की जरूरत है। उनका कहना है कि टीकाकरण बच्चों के लिए अत्यंत जरूरी होता है। इससे तमाम तरह की जानलेवा बीमारियों से निजात मिलती है। इसके साइड इफेक्ट की बात समझ से परे है। वहीं कुछ अन्य विशेषज्ञों का कहना है कि टीकाकरण में किसी तरह की खामियां हुईं, जिसकी वजह से बच्चों की जानें गईं।

यूपी में हुईं 500 से अधिक मौतें

आंकड़ों के मुताबिक, उड़ीसा दूसरे नंबर पर है। यहां पर इन 10 वर्षों में 1,087 बच्चों की मौतें हुई हैं। वहीं उत्तर प्रदेश में 561 बच्चों की मौत टीकाकरण के दुष्प्रभाव से हुई है। इसके अलावा बिहार में 752 व कर्नाटक में 439 बच्चे इसके शिकार हुए।

क्या कहते हैं डॉक्टर?

लखनऊ के हिन्द मेडिकल कॉलेज के शिशु रोग विशेषज्ञ उत्कर्ष बंसल का कहना है कि टीकाकरण बच्चों के लिए काफी फायदेमंद होता है। इसका बच्चों पर किसी भी प्रकार का दुष्प्रभाव नहीं पड़ता है, और ये कहना तो सरासर गलत होगा कि इससे बच्चों की मौत हुई है। हाँ, ऐसा हो सकता है कि बच्चों की मौत किसी और कारण से हुई हो और उसकी वजह टीकाकरण को माना गया।

केजीएमयू के डॉ. एसी श्रीवास्तव का कहना है कि टीकाकारण से बच्चों की मौत होना संभव ही नहीं है। टीकाकरण से बच्चों की मौत के आंकड़े गलत हैं। डॉ. श्रीवास्तव ने कहा कि मैंने एक बच्चे का पोस्टमॉर्टम किया था। उसके परिजनों का कहना था कि इसकी मौत टीकाकरण के बाद हुई है लेकिन पोस्टमॉर्टम में ये साफ़ हो गया कि बच्चे की मौत टीकाकरण से नहीं हुई थी।

प्राइवेट प्रेक्टिस करने वाले डॉ. अमित कुमार का कहना है कि टीकाकारण से बच्चों की मौत के आंकड़े ज्यादातर सरकारी अस्पताल के हैं, जहां बिना जानकारी के बच्चों को कोई भी टीका लगा दिया जाता है जिसका असर उनके स्वास्थ्य पर पड़ता है।

Related Post

22 अप्रैल : तुला वाले जीवनसाथी से पंगा न लें, मीन जीवन में बनें प्रैक्टिकल

Posted by - April 22, 2018 0
एस्‍ट्रो मिश्रा मेष : चुनौती भरा दिन है। काम का दबाव और छोटी-मोटी चुनौतियां रहेंगी। लेकिन, अपने कौशल से आज आप…

Quantico में टेरर: प्रियंका से नाराज हुए हिन्दू, तो ABC बोला- हमका माफ़ी दई दो

Posted by - June 9, 2018 0
मुंबई। अमेरिकी मीडिया कंपनी एबीसी ने अपने क्राइम सीरियल ‘क्वांटिको’ में हिंदुओं को बतौर उग्रवादी दिखाने पर माफी मांगी है। इस सीरियल…

OMG : मिस्टर परफेक्शनिस्ट को मांगनी पड़ी किंग खान से मदद

Posted by - March 22, 2018 0
मुंबई। बॉलीवुड में मिस्टर परफेक्शनिस्ट के नाम से पहचान बनाने वाले  आमिर खान इन दिनों अपने ड्रीम प्रोजेक्ट पर आधारित सबसे बड़ी फिल्म करने जा रहे…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *